हर अच्छी लगने वाली चीज

जरूरी नहीं की हर अच्छी लगने वाली चीज समझ में भी आये
-.-
-.-
-.-
-.-
-.-
'.-.
..
-.
.-.
.
.
.
जिहाल-ए -मस्ती मुकुन बरंजिश ,
बेहाल-ए-हिजरा बेचारा दिल है
आज तक समझ नहीं आया

Share this: